जावास्क्रिप्ट क्या है? इसका क्या उपयोग है? What is JavaScript in Hindi?

अगर आप web designing में interested हैं तो आपने JavaScript का नाम जरूर सुना होगा और हो सकता है आपने इसका use भी किया हो।

अगर आप वेब डिज़ाइनर बनना चाहते हैं तो आपको HTML, CSS के साथ जावास्क्रिप्ट जरूर सीखना चाहिए क्योकि किसी भी वेबसाइट में जान डालने के लिए Javascript बहुत ही उपयोगी है।

आज आप इस article में जानेंगे की JavaScript क्या है, इसको सीखने से क्या फायदे हो सकते हैं, वेबसाइट में इसका क्या काम होता है और इससे क्या-क्या बनाया जा सकता है।

JavaScript क्या है? (What is JavaScript in Hindi?)

javascript kya hai

JavaScript एक powerful scripting language है जिसे HTML के साथ add करके web page को और भी interactive बनाया जा सकता है।

JavaScript को Brendan Eich ने 1995 में Netscape में बनाया था तब इसका नाम Livescript था जिसे बाद में बदल कर JavaScript रखा गया।

कई सारे programmers Javascript और Java को एक दुसरे से related समझते हैं लेकिन असल में ये दोनों एकदूसरे से बिलकुल अलग हैं और इनके बीच कोई सम्बन्ध नही है। जहाँ पर Java बहुत ही complex programming language है वहीँ Javascript केवल एक light-weighted scripting language है।

Javascript एक client side scripting होने के साथ-साथ server side language भी है।

Client Side JavaScript:

  • ऐसा स्क्रिप्ट जो user के browser पर run होता है उसे client side script कहते हैं।
  • जब भी user किसी webpage के लिए request send करता है तब server उस पेज के HTML के साथ JavaScript के code को भी browser पर send कर देता है अब यह browser की responsibility होती है वह उस JavaScript के code को जरूरत पड़ने पर execute करे।
  • आप client side जावास्क्रिप्ट के कोड को अपने ब्राउज़र पर देख सकते हैं क्योंकि यह browser पर run होता है।

Server Side JavaScript

  • Server side scripting या programming से बना program browser पर नही बल्कि server पर run होता है। यह सर्वर के फाइल्स, डेटाबेस आदि को access कर सकता है।
  • प्रोग्राम execution के बाद इसका output HTML में convert होकर यूजर के browser तक पहुँचता है और वहां दिखाई देता है।
  • और इनके code को आप browser पर नही देख सकते क्योंकि सारे कोड सर्वर पर ही होते हैं और वहीँ execute होते हैं।
  • Node.js से आप जावास्क्रिप्ट का उपयोग कर server side यानि backend programming कर सकते हैं।
  • PHP, ASP.Net, JSP आदि के बारे में सुना होगा ये सभी Server side programming language हैं।

यह भी पढ़ें: Scripting Language क्या है? स्क्रिप्टिंग और प्रोग्रामिंग में क्या अंतर है?

HTML, CSS और Javascript में क्या differences हैं?

कई लोग JavaScript सीखने से पहले काफी confusion में रहते हैं और उनके मन में कुछ सवाल जरूर होते हैं जैसे:

  • HTML, CSS और Javascript में आखिर अंतर क्या है?
  • क्या हम बिना Javascript के कोई वेबसाइट नही बना सकते?
  • क्या हमें इन तीनो को सीखना ही पड़ेगा?

इन सभी सवालों का जवाब तभी मिल सकता है जब हमें पता हो की इन तीनो का काम क्या है। तो चलिए इन तीनो के उपयोग की समझते हैं:

  • HTML: इसके जरिये web page का structure तैयार किया जाता है।
  • CSS: Cascading Style Sheets से वेबसाइट के presentation वाले part को डिजाईन किया जाता है उसमे रंग आदि भरा जाता है।
  • Javascript: Page को interactive बनाया जाता है कुछ logic जैसे user किसी button पर click करे तो कौन सा function execute होगा और कौन सा task perform होगा आदि।
HTML Vs. CSS Vs. JavaScript Hindi

इन सबका मतलब यह है की आप HTML और CSS से website बना तो सकते हैं लेकिन यदि आप उसमे कुछ interactive features add करना चाहते हैं तो ऐसे में आपको जावास्क्रिप्ट का उपयोग करना होगा।

HTML, CSS और Javascript को विस्तार से समझने के लिए इन आर्टिकल्स को जरुर पढ़ें:

JavaScript के क्या-क्या उपयोग हैं?

इसका उपयोग एक interactive website को बनाने के लिए किया जाता है| इसका अधिकतर उपयोग कुछ इस प्रकार के task को perform करने के लिए होता:

  • Form Validation: User द्वारा किसी form पर input लेते समय ये verify करना की enter किया गया data सही format में है या नही जैसे email, mobile no. आदि।
  • Popup Windows: Popups जैसे alert dialog box, confirm dialog box आदि को भी जावास्क्रिप्ट से create किया जा सकता है।
  • Drop Down Menu: वेबसाइट के लिए dynamic drop down menu बनाया जा सकता है।
  • Image Slider: वेबसाइट को खूबसूरत बनाने के लिए आप JavaScript की सहायता से image slider भी बना सकते हैं।
  • Animation: Website के elements को animate करने और अलग-अलग animation effect डालने के लिए भी इसका use किया जाता है।
  • Autocomplete: आपने गूगल पर देखा होगा, जब हम text box में कुछ टाइप करते हैं उसके नीचे suggestions आने लगते हैं। इस प्रकार की चीजें आप जावास्क्रिप्ट से बना सकते हैं।
  • Browser Detection: User कौनसा browser use कर रहा है यह पता कर सकते हैं।
  • Cookies: User के browser में कुछ information store किया जा सकता है और जब user दुबारा visit करे तो उसे access कर सकते हैं इस information को cookies कहते हैं।

JavaScript के लिए कौन-कौन से Tools की जरूरत पड़ती है?

Javascript की  coding करने के लिए और उसे run करने के लिए किसी विशेष tool की जरूरत नही पडती इसके लिए सिर्फ दो चीजें आपके system में होनी चाहियें:

  • Code Editor: आप code लिखने के लिए normal text editor जैसे notepad का use कर सकते हो या किसी code editor जैसे Notepad++, Dreamweaver, Sublime, Brackets आदि में कोई भी एक use कर सकते हैं।
  • Browser: कोई modern web browser जैसे Chrome, Firefox, Safari आदि का उपयोग कर सकते हैं|

जावास्क्रिप्ट के क्या फायदे हैं (Advantages of JavaScript in Hindi)

  • Fast Execution:  यह fast इसलिए है क्योंकि यह client side पर run होता है और ज्यादा server interaction की जरूरत नही पड़ती।
  • Cross Platform: यह किसी भी operating system और किसी भी modern browser जैसे Chrome, Firefox, Internet Explorer आदि में आसानी से काम कर सकता है।
  • Easy to Learn: यह language बहुत ही simple है और इसे सीखना बहुत आसान है। इसका code syntax बहुत ही simple होता है और यह जावा और C language की तरह है।
  • Interoperability: जावास्क्रिप्ट को किसी अन्य प्रोग्रामिंग लैंग्वेज और स्क्रिप्ट के साथ mix किया जा सकता है। इसे किसी भी प्रकार के फाइल में insert किया जा सकता है।
  • Event-Based Programming: जावास्क्रिप्ट से आप ऐसे प्रोग्राम बना सकते हैं जो की किसी विशेष event जैसे button click, mouse hover आदि होने पर execute हो।
  • Procedural programming: JavaScript में Procedural programming के features जैसे branching, looping, conditioning आदि भी मौजूद हैं।
  • Popularity: PopularitY of Programming Language Index (PYPL) के अनुसार नवम्बर 2020 में पोपुलर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की लिस्ट में यह पाइथन और जावा के बाद तीसरे नंबर पर है। Node.js के आने के बाद backend programming के रूप में इसका उपयोग लगातार बढ़ रहा है।

JavaScript के नुकसान (Disadvantages of Javascript in Hindi)

  • Security Issues: जैसा की आप जानते हैं की यह client के browser पर execute होता इसलिए यह ज्यादा secure नही होता हालांकि सुरक्षा को नज़र में रखते हुए JavaScript के अन्दर कुछ restrictions लगाये गए हैं जैसे की यह user के system के files को read या write नही कर सकता| इन restrictions के बावजूद भी कुछ malicious codes अब भी run हो सकते हैं|
  • Javascript rendering varies: यह अलग-अलग browser पर अलग-अलग तरीके से काम कर सकता है यानि के इसके outputs अभी platforms पर consistent नही होते|

आज आपने इस article में पढ़ा की JavaScript क्या है (What is JavaScript in Hindi) इसके क्या काम हैं और इसके बारे में कुछ basic जानकारियां हासिल की उम्मीद है यह आपको पसंद आई होगी| आप हमारा न्यूज़लेटर भी सब्सक्राइब कर सकते हैं इसके लिए नीचे subscription box में अपना email enter करके submit करें|

Default image
Vivek Vaishnav
नमस्कार, मैं विवेक, WebInHindi का founder हूँ। इस ब्लॉग से आप वेब डिजाईन, वेब डेवलपमेंट, Blogging से जुड़े जानकारियां और tutorials प्राप्त कर सकते हैं। अगर आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आये तो आप हमें social media पर follow कर हमारा सहयोग कर सकते हैं|

Newsletter Updates

Enter your email address below to subscribe to our newsletter

Leave a Reply

Copy link