VPN क्या है? इसके फायदे नुकसान और उपयोग की पूरी जानकारी

इन्टरनेट पर लोग अपनी privacy और security को लेकर अक्सर चिंतिंत रहते हैं और इससे निपटने के लिए आजकल VPN services का बहुत ज्यादा उपयोग हो रहा है। लेकिन इसके बारे में ज्यादातर लोगों को ठीक से जानकारी नही है इसलिए आज हम इस आर्टिकल में VPN क्या है और इसके क्या फायदे और क्या नुकसान हैं इस बारे में बात करने वाले हैं।

VPN का invention वैसे तो 1996 में माइक्रोसॉफ्ट के employees ने किया था लेकिन यह इतना ज्यादा प्रचलित हुआ की बाकी कंपनियां भी इसे implement करने लगीं और इससे सभी को फायदा भी हुआ।

आज की हम बात करें तो 2020 में जब कोरोना की वजह से work from home का trend शुरू हुआ तो उसके बाद से VPN की मांग बहुत तेजी से बढ़ी है। क्योंकि कंपनी और employees दोनों चाहते थे की उनका डाटा सुरक्षित रहे। VPN का उपयोग केवल कामकाज में ही नही बल्कि ऑनलाइन विडियो स्ट्रीमिंग में भी इसका बहुत उपयोग हुआ है।

आइये जानते हैं की आखिर VPN में ऐसे क्या features हैं जिनकी वजह से यह इतना popular हो रहा है और इससे आपको क्या फायदे मिल सकते हैं।

VPN kya hai

VPN क्या है? What is VPN in Hindi

VPN का फुल फॉर्म वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क है। VPN एक प्रकार का टूल है जिसकी मदद से आप अपने इंटरनेट कनेक्शन को secure कर सकते हैं और अपनी privacy को protect कर सकते हैं। इंटरनेट का उपयोग करने के दौरान VPN आपकी identity और location को गोपनीय रखने में आपकी मदद करता है।

यानी आप VPN का उपयोग कर इंटरनेट पर बिना अपनी पहचान बताए आजादी से कहीं भी घूम-फिर सकते हैं। आप इंटरनेट पर क्या कर रहे हैं यह किसी को भी पता नहीं चलता इसकी वजह से आपके डाटा सुरक्षित रहते हैं और हैक होने का खतरा कम होता है।

इसके अलावा आप VPN की मदद से इंटरनेट पर मौजूद किसी प्रतिबंधित वेबसाइट को भी विजिट कर सकते हैं।

VPN आपकी ऑनलाइन प्राइवेसी की सुरक्षा कैसे करता है?

जब भी आप इंटरनेट पर किसी वेबसाइट को विजिट करने के लिए request करते हैं तो वह आपके ISP यानी इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (जैसे एयरटेल, आइडिया, जिओ आदि) के जरिये उस वेबसाइट के सर्वर तक पहुँचता है।

इस दौरान आपका आईएसपी आपकी सारी जानकारी जैसे आईपी ऐड्रेस, लोकेशन आदि का रिकॉर्ड रखता है और इंटरनेट पर आप किसी भी पेज को ओपन करें उन सभी की जानकारी आईएसपी को मिलती रहती है यानी आपका आईएसपी आपको ट्रैक करता है।

सिर्फ ISP ही नहीं इसके अलावा गूगल, फेसबुक, यूट्यूब जैसे वेबसाइट्स आपको ट्रैक करते हैं और आपके online activities और behavior पर नजर रखते हैं ताकि आपको आपके इंटरेस्ट के अनुसार विज्ञापन दिखा सकें।

इंटरनेट पर किसी को ट्रैक करने के लिए ip-address का उपयोग किया जाता है आपके डिवाइस का आईपी ऐड्रेस आपके लोकेशन की जानकारी दे देता है।

ऐसे में यदि आपके IP address को hide कर दिया जाए तो आपको ट्रैक करना काफी मुश्किल हो जाएगा और यही काम VPN करता है। VPN software आपको एक नया आईपी एड्रेस देता है और और उसी के जरिए आप इंटरनेट को access करते हैं और आपकी original IP hide हो जाती है।

vpn kaise kaam karta hai

VPN कैसे काम करता है?

सबसे पहले आपको अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर कोई भरोसेमंद VPN software या app डाउनलोड कर उस पर लॉग इन करना पड़ता है।

  • VPN को on करने के बाद आप जिस वेबसाइट को access करना चाहते हैं उसके लिए ब्राउज़र के द्वारा VPN को request भेजते हैं।
  • वीपीएन सॉफ्टवेयर आपके डाटा को encrypt करता है और उसे आपके आईएसपी के द्वारा वीपीएन सर्वर तक भेजता है।
  • वीपीएन सर्वर उस इंक्रिप्टेड डाटा को डिक्रिप्ट करता है और उस वेबसाइट को इंटरनेट के द्वारा access करता है और प्राप्त डाटा को इंक्रिप्ट कर वापस आपके डिवाइस पर भेज देता है।
  • इसके बाद वीपीएन सॉफ्टवेयर उस इंक्रिप्टेड डाटा को डिक्रिप्ट कर आपको वेबसाइट का वह पेज display कराता है।

इस पूरे communication के दौरान encrypted data को आपके वीपीएन सॉफ्टवेयर के अलावा कोई भी अन्य व्यक्ति नहीं समझ सकता यहां तक कि आपका ISP भी इसे डिक्रिप्ट नहीं कर पाता और उसे भी इस बात का पता नहीं चलता कि आप कौन से वेबसाइट को access कर रहे हैं।

VPN कैसे उपयोग करें?

VPN का उपयोग करना बहुत ही आसान है आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल में VPN software / app डाउनलोड कर वीपीएन सर्विस का उपयोग कर सकते हैं।

लेकिन ध्यान रहे आपको हमेशा किसी भरोसेमंद और secure VPN service provider का ही उपयोग करें नहीं तो आप को बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है।

  • सबसे पहले अपने कंप्यूटर या मोबाइल में VPN app download करें। आप चाहे तो chrome-extension का भी उपयोग कर सकते हैं ।
  • एप डाउनलोड करने के बाद अपना VPN account बनाइए और लॉगिन कीजिए।
  • VPN को enable करें और अपनी मनपसंद कोई भी एक VPN sever का चुनाव करें।
  • अब आप VPN use करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। अब आप अपने ब्राउज़र में किसी भी वेबसाइट को बिना किसी restrictions के open कर सकते हैं।

Free VPN का उपयोग करने से आपको बचना चाहिए क्योंकि वे पैसे कमाने के लिए आपके डाटा को बेच भी सकते हैं। ऑनलाइन बैंकिंग या किसी काम के लिए फ्री VPN का कभी उपयोग न करें जहाँ आपको confidential और sensitive information शेयर करने पड़ते हैं।

VPN के फायदे

  • यह आपकी ऑनलाइन सुरक्षा को बढ़ाता है: यह आपके location और IP एड्रेस को hide कर देता है जिससे हैकर को आपके डिवाइस की जानकारी नही मिल पाती और आपका सिस्टम हैक होने से बच जाता है।
  • Encryption के द्वारा डाटा को सुरक्षित करता है: नेटवर्क में flow होने वाले सभी data को VPN एन्क्रिप्शन का उपयोग कर ऐसे फॉर्मेट में बदल देता है जिसे decode करने के लिए private key की जरुरत पड़ती है और वह केवल VPN server और application के पास होता है।
  • आपकी प्राइवेसी की सुरक्षा करता है: VPN का उपयोग कर यदि आप किसी वेबसाइट को विजिट करते हैं तो इस बात की जानकारी आपके ISP को भी नही मिलती। इसके अलावा कोई भी वेबसाइट आपके original ip को नही देख पाता और इससे आपकी प्राइवेसी सुरक्षित हो जाती है।
  • Restrictions को By-pass करता है: कई वेबसाइट ऐसे होते हैं जिसपर ban लगे होते हैं या किसी प्रकार का country restriction होता है। लेकिन VPN के द्वारा इन सभी को बाय पास किया जा सकता है और आप बिना किसी Restrictions के किसी भी वेबसाइट को access कर सकते हैं।

VPN से नुकसान

  • Slow Speed: वीपीएन से आपकी इन्टरनेट स्पीड कम हो सकती है क्योंकि यह डाटा को एन्क्रिप्ट करता है और डाटा ट्रैफिक एक लम्बे रूट को follow कर VPN सर्वर से गुजरता है। हालाँकि यह सभी VPN services में नही होता इसलिए आपको VPN लेते समय speed test जरुर करना चाहिए।
  • अधिक Data consume करता है: जैसा की हमने बताया की आपके डाटा को सुरक्षित करने और unwanted surveillance से बचाने के लिए एन्क्रिप्शन का उपयोग किया जाता है इस वजह से डाटा ज्यादा consume होता है।
  • VPN वायरस और Malware से बचने की गारंटी नही: यदि आप किसी गलत वेबसाइट को विजिट करते हैं या किसी फाइल को डाउनलोड करते हैं तो जरुरी नही की आपका VPN आपको वायरस से बचा लेगा। हालाँकि अब कुछ VPN services security features provide करते हैं लेकिन उसके लिए एक्स्ट्रा चार्ज देने पद सकते हैं।
  • फ्री VPN या गलत वीपीएन से नुकसान: गलत VPN providers आपकी प्राइवेसी के लिए खतरा बन सकते हैं। वे आपके डाटा को sell कर सकते हैं। free VPN services से भी आपको बचना चाहिए क्योंकी वे आपकी प्राइवेसी और सुरक्षा का ज्यादा ख्याल नही रखते हैं।
  • Premium VPN के लिए अधिक चार्ज लगते हैं: आपको बढ़िया वीपीएन सर्विस चाहिए जिसमे सारे जरुरी features हों और डाटा लिमिट अधिक हो तो इसके लिए ज्यादा पैसे देने पड़ सकते है।
  • कुछ Online services आपको Ban कर सकते हैं: कुछ ऑनलाइन सर्विसेज, websites, apps आदि ऐसे भी होते हैं जिन्हें आप VPN के जरिये access करें तो वे आपके अकाउंट को बैन कर देते हैं। जैसे Netflix आदि।

सही VPN Provider कैसे चुने?

मार्केट में कई सारी VPN Companies हैं जिसमे से कुछ अच्छा काम कर रही हैं तो कुछ ऐसे भी VPN providers हैं जिनकी सर्विस से आप संतुष्ट नही हो पाएंगे।

इसलिए आपको एक सही VPN का चुनाव करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जैसे:

  • किसी Trusted और Reputed VPN का उपयोग करें
  • Speed का ध्यान रखें
  • Service और feature के अनुसार Price suitable होने चाहिए
  • Anti malware और अन्य security features हो
  • Provider latest Protocols को follow करता हो
  • Data Limit आपकी जरुरत के अनुसार हो
  • आप multiple device का उपयोग कर सकें
  • कस्टमर सपोर्ट की सुविधा हो

Best VPN Service Providers

निचे कुछ VPN providers के नाम दिए गये हैं जो की बेहतर सर्विस दे रहे हैं और जिनके बारे में आप रिसर्च कर सकते हैं:

  • ExpressVPN
  • NordVPN
  • ProtonVPN
  • IPVanish
  • Surfshark

इनके अलावा और भी कई कंपनियां हैं जिनके बारे में आप जानकारी ले सकते हैं और ऊपर बताये गये तरीके से एक सही VPN provider का चुनाव कर सकते हैं।

Conclusion – VPN in Hindi

VPN से आपको कई सारे फायदे होते हैं और इसका उपयोग हर कोई कर सकता है। इससे आप इन्टरनेट के फ्रीडम का मजा ले सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखें की आपकी जानकारी भले ही किसी को न हो लेकिन आपके VPN provider को आपका IP address, web history आदि के बारे में पता होता है।

आज इन्टरनेट पर Free VPN के नाम पर कई सारे Apps आ गये हैं और लोग धड़ल्ले से उनका उपयोग भी कर रहे हैं। लेकिन यहाँ एक बात और समझ लेंना चाहिए की VPN server को चलाने और सर्विस provide करने के लिए कंपनी को बहुत अधिक पैसे invest करने पड़ते हैं और इसलिए उन्हें कहीं न कहीं से income generate करना पड़ता है।

ऐसे में यदि वे आपकी प्राइवेसी और सुरक्षा के साथ समझौता कर लें और आपका डाटा किसी गलत हाथों में दे दें तो आपको इसके बुरे परिणाम भी भुगतने पड़ सकते हैं। इसलिए VPN का फायदा लेना है तो इसके लिए सबसे जरुरी है सही VPN provider को चुनना।

हमें उम्मीद है आपको VPN के बारे में यह जानकारी पसंद आई होगी। इस बारे में अपने विचार निचे कमेंट बॉक्स में जरुर रखें।

आगे पढ़ें:

Default image
Vivek Vaishnav
नमस्कार, मैं विवेक, WebInHindi का founder हूँ। इस ब्लॉग से आप वेब डिजाईन, वेब डेवलपमेंट, Blogging से जुड़े जानकारियां और tutorials प्राप्त कर सकते हैं। अगर आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आये तो आप हमें social media पर follow कर हमारा सहयोग कर सकते हैं|

2 Comments

  1. AAJ AASS PARIVAR FOUNDATION ki website design karna hai aap iss foundation ki technical help kare

Leave a Reply